पानी की समस्या को लेकर युवा संकल्प ने किया निगम घेराव

20170913_122922 Screenshot_20170913-162543रायगढ़ टॉप न्यूज 13 सिंतबर। रायगढ़ नगर निगम का हालात दिन बी दिन ख़राब होते जा रहा है। पानी, बिजली, सड़क, राशन, स्वच्छता और भी कई मौलिक समस्या ने रायगढ़ को घेर रखा है। तरक्की तो काही खो सा गया है। सभी 48 वार्डो मे स्थिति खराब है। जनप्रतिनिधि से लेकर अधिकारी दोनों अपने ज़िम्मेदारी से भाग रहे है। मनुष्य को जीने के लिए कुछ मूलभूत चीजों कि आवश्यकता होती है उसे भी निगम के द्वारा उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है। पानी का समस्या तो पूरे निगम मे बना हुआ है। किसी वार्ड में बोर खराब है तो किसी वार्ड मे पाइप लाइन खराब है कुछ मुहल्ले तो ऐसे है जहां न बोर है और न ही पाइप लाइन।
वार्ड क्र 3 मंगलूडिपा में 1 हजार से ज्यादा लोग निवास रत है। इतने बड़े जनसंख्या होने के बावजूद इस मुहल्ले मे केवल एक ही बोर है। जो बोर सभी घरो मे पानी की पूर्ति करने मे समर्थ नहीं है। लोगो के घरो मे इतना कम पानी आता है की उन्हे पीने का पानी भी नहीं मिल पता है। 1 छोटे से मटके को भरने मे 2 घंटे लग जाते है। और वह बोर हर 15 दिनो मे खराब हो जाता है। और सप्ताह भर के लिए निगम बनने आ जाता है। जिससे लोगो को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। यहा के निवासी पानी के लिए दर दर भटकते है। पानी का किल्लत इनके जीवन यापन को प्रभावित कर रहा है। वार्ड पार्षद भी समस्याओ का निदान करने मे सक्षम नही है। उनके द्वारा बोला जाता है की बोरिंग के पानी से काम चलाये। बोरिंग के पानी मे लौह अयस्को की मात्र ज्यादा है अगर उस पानी से कपड़ा भी धोया जाएगा तो कपड़े की हालत खराब हो सकती है तो फिर इंसान उस बोरिंग का पानी कैसे पिये।
आज युवा संकल्प संगठन के साथ पूरे मंगलूडिपा निवासी नगर निगम का घेराव किए और अपने समस्याओ के लिए ज़ोर शोर से निगम मुर्दाबाद के नारे लगाए। युवा संकल्प अध्यक्ष कौशल गोस्वामी के अध्यक्षता मे वार्ड क्र 3 वार्ड अध्यक्ष काशी नाथ मण्डल के नेतृत्व मे सैकड़ों के तदात मे महिलाओ, बुजुर्गो और आम नागरिकों के द्वारा नए बोर खोदने, पानी टंकी का निर्माण करने और पाइप लाइन का विस्तार करने के मांगो के साथ निगम घेराव कार्यक्रम किया गया। 1 घंटे से ज्यादा समय तक नारे बाजी करने के बाद निगम आधिकारी आए और मंगलूडिपा के समस्याओं को सुनने के बाद तत्काल बोर मरम्मत के लिए भेजा गया और आश्वासन दिया गया की जल्द ही बाकी मांगों को पूरा किया जाएगा। आश्वासन मिलने के बाद लोगो ने अधिकारियों को मांग पूरा नहीं होने पर पुनः उग्र आंदोलन करने की बात कहते हुये निगम घेराव को छोड़ा गया।