मूकदर्शक बनी आरपीएफ, पोस्ट के सामने अवैध वेंडर कर रहे फेरी

8ad744bf-0b7d-4ae6-9884-54553d08ab81रेलवे ने करीब 3 साल से बंद की है फेरी प्रथा, प्रतिबंध के बावजूद जारी
रायगढ़ टॉप न्यूज 13 सिंतबर। रेलवे के प्रतिबंद्ध के बावजूद रायगढ़ रेलवे स्टेशन पर फेरी प्रथा को बढ़ावा दिया जा रहा है। अवैध वेंडरों को मनोबल इस कदर बढ़ गया है कि वो आरपीरएफ पोस्ट के सामने खड़े होने फेरी कर रहे हैं। जबकि आरपीएफ के अधिकारी व जवान, इस मामले में मूकदर्शक बनेरहते हैं। हालांकि प्रकरणों की संख्या बढ़ाने के लिए ट्रेन के अंदर फेरी करने वाले वेंडरों की धर पकड़ जरुर की जाती है। पर स्थानीय अवैध वेंडरों पर यह कार्रवाई नहीं होती है।

बिलासपुर डिवीजन के रायगढ़ रेलवे स्टेशन पर रेल नियमों को ताख पर रख कर फेरी की जाती है। यह सिलसिला करीब ३-४ माह से नियमित रुप से हो रहा है। पर संबंधित अधिकारी सब कुछ जानकार भी इस मामले में चुप्पी साधे बैठे हुए हैं। बुधवार की सुबह करीब १० बजे भी यहीं नजारा देखने को मिला। जब टिटलागढ़ पैसेंजर, रायगढ़ प्लेटफार्म नंबर एक पर आकर लगी। ट्रेन के लगते ही अवैध वेंडर, फेरी के सामान के साथ कोच टू कोच घुमने लगे। खास बात तो यह है कि अवैध वेंडर के मनोबल का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि आरपीएफ पोस्ट के सामने काफी देर तक फेरी की कवायद की जा रही थी। जबकि आरपीएफ पोस्ट में उस समय अधिकारी से लेकर जवान तक मौजूद थे। पर हमेशा की तरह वो मूकदर्शक बने रहे। वहीं अवैध वेंडर जोर-जोर से चिल्ला कर फेरी करते नजर आए। विदित है कि रायगढ़ प्लेटफार्म पर मौजूद एक-दो स्टॉल संचालकों को छोड़ कर सभी के द्वारा फेरी के लिए बाहर से लड़कोंं को बुलाया जाता है। जो ट्रेन टू ट्रेन, रेलवे स्टेशन पर आते है और फेरी करने के बाद चलते बने हैं। रायगढ़ स्टेशन पर फेरी की बात से आरपीएफ से लेकर रेल अधिकारी भी पूरी तरह से अवगत है। पर इस मामले में कभी भी उनके द्वारा कोई ठोस पहल नहीं की जाती है। हालांकि मीडिया के सवालों के बीच सीआई व सीएसएम हर बात कार्रवाई करने के खोखले दावे जरुर करते हैं।